Thursday, January 6, 2011

समुद्र मंथन और अमृत वितरण



शुक्राचार्य से शक्ति ले दैत्य हो रहे थे प्रबल 
दुर्वासा के शाप ने देवराज को किया निर्बल 
असुरों,दैत्यों का हो रहा था अभ्युथान 
देवत्व का होता जा रहा था पतन 
सारे देवगन हो गए परेशान 
फिर नारायण को किया आह्वान 
श्री नारायण ने मंथन का राह दिखाया 
अमृत पान का गुरु मन्त्र सुझाया 
अमृत कि खातिर एक हुए दैत्य दैत्यारी 
समुद्र मंथन कि हो गयी तैयारी 
पर्वत मंदराचल कि बनी मथनी 
वासुकी नाग बन गया नेती
श्री विष्णु ने लिया कच्छप अवतार 
आधार बन संभाला पर्वत का भार
देव दानव सबमें शक्ति का संचार किया 
गहन निद्रा दे वासुकी का कष्ट हर लिया 
वासुकी कि मुख का भाग दैत्यों ने थाम लिया
देवताओं ने उसकी पूंछ कि ओर स्थान लिया 
समुद्र मंथन कि क्रिया हो गयी प्रारंभ 
मंदराचल का घूमना हुआ आरम्भ 
जल का हलाहल विष निकला सर्वप्रथम 
इतनी दुर्गन्ध कि घुटने लगा सबका दम 
उसके प्रभाव में सभी क्रांति खोने लगे 
दुर्गन्ध,जलन सभी असह्य होने लगे 
तभी शिव शंकर औढरदानी वँहा आये 
कालकूट विष पीकर नीलकंठ कहलाये 
भोले शंकर ने सबको पीड़ा से उबार दिया 
विष कंठ में धर सबका उन्होंने उद्धार किया 
कहते हैं कुछ बूंद विष जो गिरा धरती पर 
उसी से जन्मे सर्प,बिच्छु सारे विषधर 
विष पीड़ा काल हुआ संपन्न 
पुनः प्रारंभ हुआ समुद्र मंथन 
निकली कामधेनु नामक गोधन 
उस गाय को ऋषियों ने किया ग्रहण 
उच्चः श्रवा नामक जो अश्व आया 
दैत्यराज बलि ने उसे पाया 
फिर आया कल्पद्रुम औ आई रम्भा अप्सरा 
दोनों को देवलोक में स्थान मिला 
फिर मंथन ने माता लक्ष्मी को उत्पन्न किया 
लक्ष्मी ने खुद हीं श्री विष्णु का वरण किया 
फिर कन्या रूप वारुणी हुई उत्त्पन्न 
दैत्यों ने किया उसे ग्रहण 
यूँ हीं उद्भव हुआ चंद्रमा,पारिजात वृक्ष और शंख का
अंत में आये धन्वन्तरी लेकर घट अमृत का 
दैत्यों ने अमृत घट छीन लिया 
स्वभाववश  फिर आपस में युद्ध किया 
देख कर घट दैत्यों के पास 
देवता बेचारे खड़े थे उदास
तत्काल विष्णु ने मोहिनी रूप धरा
जिसने देखा उसे बस देखता ही रहा 
सुन्दरता को भी लजाने वाली वह रूपसी 
छम छम करती दैत्यों के पास चली 
मोहित हो दैत्य करने लगे वंदन 
हे सुमोहिनी,हे शुभगे,हे कमल नयन 
हम पर अपनी सौन्दर्य कृपा बरसा दो 
इन कर कमलों से अमृतपान करा दो 
वह मुस्काई तो सबके दिल में हुक उठी 
आखिर वह कोकिल बयनी कुक उठी 
हे कश्यप पुत्र,हे वीर कुछ सयाने भी लगते हो 
फिर भी मुझ सुंदरी,चंचला पर विश्वाश करते हो ?
इस अमृत घट से मेरा क्या प्रयोजन ?
आपस में खुद हीं कर लो न वितरण 
कामांध वे दैत्य कुछ समझ नहीं पाते थे 
उस ठगनी पर और विश्वास जताते थे 
मोहिनी ने दैत्य देवों को दो पंक्ति में बिठा दिया 
देवों को अमृत दैत्यों को तो बस झांसा दिया 
 (एक दैत्य ने भी अमृत पिया था जो राहू केतु बना पर उसका जिक्र इस कविता में नहीं है क्यूंकि वह दूसरी कहानी शुरू हो जाती )

15 comments:

  1. वाह अलोकिता जी
    अलग मंथन हैं ये
    इस कथा को कविता मैं प्रतियर्पित कर बहुत खूबसूरत आयाम दिया आपने
    शब्द संयोजन निखर हुआ हैं
    प्रवाह भी बहुत मुक्कमल
    बधाई आपको
    इस रचना के बाद कह पाउँगा की शायद रचना पर आपका अधिकार शाश्वत हैं
    बधाई पुनः

    ReplyDelete
  2. अलोकिता जी
    नमस्कार !
    किसकी बात करें-आपकी प्रस्‍तुति की या आपकी रचनाओं की। सब ही तो आनन्‍ददायक हैं।

    ReplyDelete
  3. आपकी रचना वाकई तारीफ के काबिल है ......अलोकिता जी

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी ओर सुंदर लगी आप की यह रचना, धन्यवाद

    ReplyDelete

  5. बेहतरीन पोस्ट लेखन के लिए बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है - पधारें - बूझो तो जाने - ठंड बढ़ी या ग़रीबी - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

    ReplyDelete
  6. एक बेहतरीन रचना । नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।
    काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन ।
    बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्ति ।
    सुन्दर भावाव्यक्ति । साधुवाद ।
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया प्रस्तुतीकरण

    ReplyDelete
  8. वाह शुध अध्यात्म आभार

    ReplyDelete
  9. रवीश जी के कस्बे से होता हुआ आया आपके ब्लॉग पर.. पहली बार... कुछ अलग बात है आपकी लेखनी में... भीड़ से अलग...
    आपको ढेर सारी शुभकामनाएं... लिखती रहें....

    ReplyDelete
  10. नए आयाम दिखाती रचना. अच्छा सार और इस सार को अभी के समय में समझना और भी जरूरी है.
    मोह के अधीन हो सब गड़बड़ हो जाता है. सीता जी के साथ भी यही हुआ.
    आज के समय में भक्ति जैसे विषयों पर "कविता" लिखना अच्छा लगा.
    आपका मार्गदर्शन मुझे भी कुछ सहायता प्रदान करेगा.

    ReplyDelete
  11. अलोकिता जी अच्छी रचना

    ReplyDelete
  12. सुन्दर रचना.. हार्दिक बधाई...

    आलोक अन्जान,
    http://aapkejaanib.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. बहुत ही अच्छी लगी आप की यह शब्द रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  14. सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  15. आपकी रचना ...शब्दों के समंदर से चुनकर लाये गए मोती हैं ...बहुत सुंदर ...शुक्रिया

    ReplyDelete