Wednesday, December 22, 2010

सब बदल गए




शब्दों के अर्थ बदल गए 
अर्थों के शब्द बदल गए 



 कुछ शक्लें थीं जानी पहचानी 
अब तो सारे चेहरे बदल गए 


दिखा देते थे सही चेहरा 
अब वे आईने बदल गए 


खुल कर कुछ कह नहीं सकती 
जाने क्या समझ बैठो 
हर शब्द के अब मायने बदल गए 


आसपास ढूंढ़ रहे थे हम 
हमे क्या पता था 
अब रिश्तों के दाएरे बदल गए 


नजरें अब भी वही हैं 
देखने के अंदाज़ बदल गए 


शब्द अब भी वही है 
बस उनके एहसास बदल गए 


हम तो अब भी वही हैं 
पर सबके जज्बात बदल गए 


ये देख कर सहम गयी 
अब तो समाज की सारी
व्यवस्था बदल गयी 


किसी ने समझाया 
बदला कुछ भी नहीं 
तुम्हारी अवस्था बदल गयी 

23 comments:

  1. दिल को छूती है हर पंक्‍ित लिखते रहें अविराम
    सुबहो शाम

    ReplyDelete
  2. Very poignant revealing emotional pain. Exquisitely expressed.

    ReplyDelete
  3. बेहद खूबसूरत… सचमुच दिल को छू गयी… और बहुत गहरी भी… :)

    ReplyDelete
  4. आदरणीय आलोकिता जी,
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. आप से निवेदन है कि मेरी पोस्ट "जानिए पासपोर्ट बनवाने के लिए हर जरूरी बात" देखियेगा और अपने अनुपम विचारों से हमारा मार्गदर्शन करें.
    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    http://sawaisinghrajprohit.blogspot.com पर आकर
    हमारा हौसला बढाऐ और हमें भी धन्य करें .......आपका अपना

    ReplyDelete
  6. अरे वाह इसी बदलने पर एक कविता मैंने भी लिखी थी...लेकिन आपकी मेरे से अच्छी है... हा हा हा ....
    आप बहुत अच्छा लिखती हैं...लगता है यहाँ आना जाना बढ़ाना पड़ेगा...:)
    आपको अपनी पुराणी कविता और नयी कविता दोनों का लिंक दे रहा हूँ उम्मीद है आप ज़रूर आयेंगी..

    हाँ मुसलमान हूँ मैं.. ..
    क्या क्या बदल गया है ..

    ReplyDelete
  7. बदला कुछ भी नहीं,
    तुम्हारी अवस्था बदल गई.

    बढिया प्रस्तुति. आभार...

    ReplyDelete
  8. @Kulwant ji dhanyawaad aur likhne ka to passion hai mujhe, akhiri sanso tak likhna padhna nai chod sakti
    @ bali sir Thanks
    @Rashmi Thanks
    @sushil ji Thanks

    ReplyDelete
  9. @ sawai ji jaroor padhungi aapka blog and thanks 4 visiting mine
    @Shekhar Suman ji aapka baar bar aana mujhe bhi acha lagega mere blog par aur aapki dono rachnayen bhi jarur padhungi after all padhna mera passion hai bhai

    ReplyDelete
  10. @ Sanjay Bhaskar
    Thanks a lot and sorry aapka naam chut gaya tha

    ReplyDelete
  11. बदलाव तो सत्य है...
    हाँ, कुछ बातें कभी नहीं बदलनी चाहिए!
    सुन्दर प्रस्तुति!!!

    ReplyDelete
  12. Alokita Ji,
    Namaste,
    bahut sunder rachna, sach much sab badal gaye, Har cheeze ke, baat ke maayne badal rahe hain .....

    Surinder Ratti
    Mumbai

    ReplyDelete
  13. Thanks Shivamji
    anupma ji thanks
    and surinder ji u 2

    ReplyDelete
  14. bahut aacha likha hai aap ne


    visit my blog www.punjabismsshayari.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. बहुत सुखद एहसास रहा इसे पढना तुम्हारी सोच मैं एक बदलाव सा पाता हूँ
    सचमुच कुछ बदल गया हैं ऐसा कुछ जो तुम्हे महसूस भी हुआ
    बधाई अच्छी रचना के लिए

    ReplyDelete
  16. Thanks sir pahli baar comment karne k liye aapke comments bahut maine rakhte hain mere liye

    ReplyDelete
  17. सुन्दर अभिव्यक्ति , सटीक दृष्टि डाली है आपने आज के बदलाव पर .

    ReplyDelete
  18. बहुत ही बखुबी आपने अपनी भावनाओं को शब्दों का रुप दिया है....आपकी रचना मेरे दिल तक उतर गयी..बहुत उम्दा।....धन्यवाद।

    ReplyDelete
  19. meri bhi avastha hi badal gayi......man wahi hai...

    ReplyDelete