Friday, February 3, 2012

ज़ेर-ए-लब भी हम शिकायत कर ना सके


दर्द-ए-दिल कागज़ पर हम रचते रहें
वे खुश होकर पढ़ते, तारीफ़ करते रहे 
                                                                         
कह कह कर कातिलाना हमारी गजलों को 
हँस के तारीफों से क़त्ल हमारा करते रहें

कसीदे पढ़ते रहें हम उनकी अदाओं के 
वे बस कलम की कारसाजी पर मरते रहे 

कायल थे वे हमारी हीं दास्तान-ए-दर्द के 
तभी तो फ़सुर्दगी के आलम भेंट करते रहे

ज़ेर-ए-लब भी हम शिकायत कर ना सके
पर वे तो भरे बज्म में भी तंज़ कसते रहे 

आशियाँ तो वे कहीं और हीं बसा चुके थे 
और हम दर पे उनके इंतज़ार करते रहें 

सोचा मर जाएँ उनके संग-ए-आस्तां पर 
 क्या करें उनकी रुसवाइयों से डरते रहे 




6 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब http://aapki-pasand.blogspot.com/2012/02/blog-post_03.htmlसमय मिलिए कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  3. ओह आलोकिता कमाल कर दिया …………हर शेर दिल से निकल कर दिल तक पहुंच गया……………गज़ब की अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. गहरे भाव.....
    सुंदर अहसास।
    बेहतरीन गजल।

    ReplyDelete
  5. गहरे जज्बात भरे है इन पंक्तियों में.सुन्दर प्रस्तुति.
    पुरवईया : आपन देश के बयार- कलेंडर

    ReplyDelete