Monday, March 28, 2011


ओ शीतल शीतल पवन के झोकों
**********************************

ओ शीतल शीतल पवन के झोकों 
बहने दो संग में..... आज न रोको 
शीतलता मुझे खुद में भर लेने दो 
कुछ  पल, मन शीतल हो लेने दो
अपनी मोहकता में मुझे खोने दो 
आज.... बाँहों के झूलों में सोने दो
जी करता है , मैं बदली बन जाऊं
ले जाये जहाँ ,  तेरे संग उड़ जाऊं 
छू आऊं मैं चाँद को...... कुछ पल  
अनंत में खो जाऊं ....... कुछ पल 
ओ शीतल शीतल पवन के झोकों 
बहने दो संग में..... आज न रोको 
जी करता, मैं भी पवन बन जाऊं 
हर  दामन को, शीतल कर जाऊं
कहो तो रज  कण सी उड़ चलूँ मैं 
जिस ठौर ले जाओ, वहीँ चलूँ  मैं 
या की.. पुष्प पराग सी झर जाऊं
वातावरण ,   सुवासित कर जाऊं
तरु पात सी डोलूँ मैं तेरे छुवन से 
या उनिग्ध हो जाऊं तेरे छुवन से
ओ शीतल शीतल पवन के झोकों 
बहने दो संग में..... आज न रोको 
 ....................................................आलोकिता 
    

13 comments:

  1. prakriti ka saanidhya..

    sunder hai rachna :)

    ReplyDelete
  2. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 29 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. कौन रोक रहा है भाई खूब उडती रहो

    ReplyDelete
  4. koi nahi rokega, ud chalo mann aasmaan ko chhu lo

    ReplyDelete
  5. देखना थोडा संभल संभल के उड़ना.... :)

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया पोस्ट!

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर काव्य प्रस्तुति...लाजवाब।

    ReplyDelete
  8. bahut maja aaya padhakar par
    हमें तो आज शर्म महसूस हुयी ..भारत की जीत की ख़ुशी उड़ गयी ... आपकी नहीं उडी तो आईये उड़ा देते है.
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete