Friday, December 31, 2010

ढलते सूर्य को मेरा नमन


पुराना साल जाने को है और नए साल का पदार्पण होने हीं वाला है | साल का आखिरी सूर्य अस्त होगा और नयी आशाओं को लिए बालारुण पूर्वी क्षितिज से उदीत होगा | क्या जा रहा है और क्या आएगा ? कुछ भी तो नहीं | अपनी सहूलियत के लिए बनाये गए इन सालों का आवागमन बस दर्शाता है गतिमान समय को, जो बढ़ता हीं जायेगा, बढ़ता हीं जायेगा |
उगते सूर्य को तो हम हमेशा सलाम करते हैं , अर्ध्य चढाते हैं | ऐ अस्त होते सूर्य जरा ठहर जा आज तुझे भी अर्ध्य चढ़ा लूँ | मुझे पता है तू न ठहरा है और न ठहरेगा पर अपनी मानव प्रवृति से लाचार मैंने तुझे ठहरने को कह दिया बस अपनी संतुष्टि  के लिए | इससे पहले कि तू पश्चिमी क्षितिज में जाकर विलीन हो जाए, मैं पूरे साल को संजो लेना चाहती हूँ अपनी यादों कि डायरी में | तू हीं जब साल का पहला सूर्य बन कर आया था तो हमने भव्य स्वागत किया था,और कल फिर जब तू नए साल का सूर्य बन कर आएगा तो तेरा स्वागत किया जायेगा | जब नए साल का आगमन हुआ तभी से पता था कि यह चला भी जायेगा | जाने फिर क्यूँ मान बेचैन हुआ जाता है | लगता है जैसे कुछ पीछे छुटा जा रहा है | सोचती हूँ कि मैं आगे बढ़ गयी, तू पीछे छुट गया या तू समय कि चाल से आगे बढ़ गया और मैं पीछे रह गयी ?
बहुत सी नयी खुशियाँ दी है तुने मुझे जिसे मैं कभी भूल नहीं सकती जाते हुए कुछ आँसु भी दिए उन्हें भी नहीं भुलाया जा सकता | तू पूरी तरह से बस गया है मेरी यादों में | ऐ जाते हुए साल, ढलते हुए सूर्य मेरा नमन स्वीकार कर | 

18 comments:

  1. सही कहा आपने ....ढ़लते सूर्य को नमस्कार....

    ReplyDelete
  2. नया साल मुबारक हो मैडम जी...:)
    खूब तरक्की करें आप...
    बस यही दुआ है...

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष २०११ आपके जीवन में सुख, समृद्धि व मनोवांछित फलदायी हो, यह मेरी हार्दिक शुभकामना है.

    ReplyDelete
  4. चलिए, अब आने वाले सूरज के स्‍वागत की तैयारी करें.

    ReplyDelete
  5. नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. i also give my salute to 2010
    this year was definitely a better year for me in sense of friendship,my love for poetry,some struggle and some great helps from my friends..

    happy new year to all :)
    my wish for you to keep writing and we will keep reading
    good writing :)

    ReplyDelete
  7. नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो और आपके जीवन में सुख सम्रद्धि आये…एस.एम् .मासूम

    ReplyDelete
  8. बस इतना ही कह सकता हूँ ...

    इस रिश्ते को यूँही बनाये रखना,
    दिल में यादो के चिराग जलाये रखना,
    बहुत प्यारा सफ़र रहा 2010 का,
    अपना साथ 2011 में भी बनाये रखना!
    नव वर्ष की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुनदर अभिव्यक्ति , बधाई व आपको व आपके ब्लाग के सभी साथियों को नववर्ष की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. मुबारक हो नया साल, आप को और सब को!!!

    ReplyDelete
  11. नए साल का सुन्दर आगाज़.
    हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  12. आलोकिता
    ठीक कहा तुमने नए वर्ष का स्वागत ही किया था तुमने......अपनी भावनाओं के पुष्प चढाए थे बहुत समय दिया था ...... पलक- पावढे बिछाए थे .....और चला ही गया आखिर ये जाता हुआ वर्ष नियति थी उसकी , उन भावनाओ को नहीं समझा शायद इसलिए जाते जाते दे गया आसूं ...निर्मोही था ....भुला देना उसकी निर्ममता को ....नया वर्ष फिर आएगा बाहें पसारे........ सहेज लेना ........उगते सूर्य की किसी भी किरण को..
    बधाई .......नव वर्ष के मंगल होने की तह-ए-दिल से कामना के साथ

    ReplyDelete
  13. नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं स्वीकार कीजिए । सादर - आशुतोष मिश्र

    ReplyDelete
  14. सुंदर प्रस्तुति. नये वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. दिल की गहराईयों को छूने वाली एक खूबसूरत, संवेदनशील और मर्मस्पर्शी प्रस्तुति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  16. नए साल की शुभकामनाओं के साथ तहे दिल से शुक्रिया आप सब का |

    ReplyDelete