Saturday, December 18, 2010

चलो एक बार फिर से











चलो एक बार फिर से ,
गुम हो जाएँ उन अतीत के पन्नों में |
चलो एक बार फिर से ,
घूम आयें उन बीती गलियों में |
चलो एक बार फिर से ,
जी आयें उन गुजरे  लम्हों में |
चलो एक बार फिर से ,
हँस ले उन हसीन यादों को |
चलो एक बार फिर से ,
सुन आयें उन अनकही बातों को |
चलो एक बार फिर से ,
चूम आयें उन बुलंद इरादों को |
चलो एक बार फिर से ,
चलो दोहरा आयें उन वादों को |
चलो एक बार फिर से ,
रो आयें बैठ कर साथ में |
चलो एक बार फिर से ,
गा आयें मिलकर एक सुर में |
चलो एक बार फिर से ,
निश्छल भाव से भर जाएँ |
चलो एक बार फिर से ,
सारी कटुता भूल जाएँ |
चलो एक बार फिर से ,
सब मिलकर मौज मनाएं |
(missing my school days 2 much, so dedicated 2 all my frenz )

15 comments:

  1. VERY MEANINGFUL THOUGHT...
    LOVELY PRESENTATION/

    ReplyDelete
  2. याद न जाए बीते दिनों की...:)

    ReplyDelete
  3. Baban Pandey
    Shivam ji
    Sanjay ji
    Padmsingh ji
    Indrnil ji
    Acha laga aap ka is blog par aagman Dhanyawaad

    ReplyDelete
  4. sunder ...:)
    bachpan ke din aur vidhalaya ke har pal chin
    rakhte hai mujhko jivit....har dagar par pratidin..:)

    ReplyDelete
  5. chalo ek baar phir se gaana yaad aa gaya tha lekin sundar chitran se bhoolo bisari bachpan kee yaade taaje ho gayee....
    bahut achha laga aapke blog par aakar...
    Haardik shubhkamnayne..

    ReplyDelete
  6. बीता समय कभी वापस नहीं आता सिर्फ यादें रह जाती हैं|

    सुन्दर रचना|

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति...........आप ने यादों को अच्छी अभिव्यक्ति दी है।

    सृजन शिखर पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  8. Hey,you have touched the soft corner of my heart.
    I am also going to leave my school soon.I will miss my school,my frendz and everyone.

    ReplyDelete
  9. माँ मेरा बचपन लौटा दो

    ReplyDelete