Friday, December 17, 2010

चिता और चिंता






चिता में जलते हैं निर्जीव ,
चिंता से जलते सजीव |




कुछ घंटो में चिता की अग्नि शांत हो जाती ,
पर चिंता की अग्नि निरंतर बढती हीं जाती |


चिंता में जलता रहता है मानव ,
चिंता उसका खून पीती बनकर दानव |


अपना लहु देकर भी हमे कुछ मिल नहीं पाता,
चिंता में सर खपा कर भी कुछ हाथ न आता |


चिंता है एक मकड़  जाल, जिसमे मानव फंसता जाता,
अवनति रूपि दलदल में वह धंसता जाता |


हास्य-विनोद हीं इस चक्रव्यूह को है तोड़ सकता ,
चिंता से दूर कर खुशियों से हमारा नाता जोड़ सकता |



हास्य-विनोद से सब अपना नाता जोड़ो,
और आज से हीं चिंता का दामन छोड़ो |


22 comments:

  1. चिंता और चिता //
    वाह /
    बड़ा ही करीने से अंतर समझाया बहन /

    ReplyDelete
  2. आपकी पोस्ट की चर्चा कल (18-12-2010 ) शनिवार के चर्चा मंच पर भी है ...अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव दे कर मार्गदर्शन करें ...आभार .

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  3. चिन्ता का दामन छोड दिया जी ।चिन्ता तो चिता समान है। अच्छी रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  4. kya vivechna hai....laajwaab...behad sundar...badhai ho

    ReplyDelete
  5. वाह !कितनी अच्छी रचना लिखी है आपने..! बहुत ही पसंद आई

    ReplyDelete
  6. चिन्ता चिता समान है

    ReplyDelete
  7. आलोकिता जी ,
    यह प्रमाण पत्र आपको खुद ही देना है कि आप के द्वारा भेजा गया आलेख आपने ही लिखा है और इस से पहले कहीं और नहीं छपा है !

    बस इतनी सी बात है ... अब जल्दी से अपना आलेख लिख कर भेज दीजिये !

    ReplyDelete
  8. Sangeeta swaroop ji
    Anupama pathak ji
    Nirmala kapila ji
    Satyam Shiwam ji
    Sanjay bhaiya
    thanks a lot bahut bahut dhanyawaad aap sab ka

    ReplyDelete
  9. हास्य विनोद मगर चिंता ने धो डाला है
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रेरक अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  11. चिंता तो चिता का है रास्ता बतलाती
    हास्य विनोद ही चिंताको झुठलाता है

    ReplyDelete
  12. M.Verma ji
    Kailash ji
    Nivedita ji
    Dhanyawaad

    ReplyDelete
  13. sunder kavita...
    chinta se chaturai ghate
    duks se ghate sarir.....:)

    ReplyDelete