Saturday, December 14, 2013

अच्छा लगता है


ख़ामोश तन्हाइयों से निकल, किसी भीड़ में खो जाना
अच्छा लगता है कभी-कभी भीड़ का हिस्सा हो जाना

भूल कर अपने आज को, बीती गलियों में मंडराना
अच्छा लगता है कभी-कभी पुरानी यादों में खो जाना

शब्दों में बयां किए बगैर, दिल के एहसासों को जताना
अच्छा लगता है कभी-कभी मुस्कुरा के खामोश हो जाना

बेमतलब बेईरादतन बार-बार यूँ हीं मुस्कुराना
अच्छा लगता है कभी-कभी अंजाने ख्यालों में खो जाना

दुनिया के कायदों, अपने उसूलों को तार-तार करना
अच्छा लगता है कभी-कभी बन्धनों से आज़ाद हो जाना


                                                      






........आलोकिता 

5 comments:

  1. शब्दों में बयां किए बगैर, दिल के एहसासों को जताना
    अच्छा लगता है कभी-कभी मुस्कुरा के खामोश हो जाना
    बहुत खुबसूरत पंक्तियाँ !
    नई पोस्ट विरोध
    new post हाइगा -जानवर

    ReplyDelete
  2. और मुझे अच्छी लगी आपकी यह रचना.

    ReplyDelete