Saturday, December 25, 2010

MERRY CHRISTMAS

WISH U ALL A MERRY CHRISTMAS. आज के दिन हर साल मुझे अपने बचपन का स्कूल और वो प्यारी प्यारी सिस्टर्स बहुत अधिक याद आती है | समाज सेवा में लगी उन साध्वी स्त्रियों का नाम जेहन में आते हीं श्रद्धा से नतमस्तक हो जाती हूँ | आज लगता है कि जिन्दगी का वह बहुत बुरा दिन था जब चौथी कक्षा में मैंने वो स्कूल छोड़ा था | आज तो मुझे उस स्कूल कि बहुत याद आ रही है और उन्ही यादों को मैं आपके साथ साझा करना चाहती हूँ |
हर साल क्रिसमस के दिन हमलोग अपने हाथ से ग्रीटिंग कार्ड बनाते थे | ख़रीदा हुआ कार्ड सिस्टर लेती नहीं थी | छुट्टी  के बावजूद इस दिन हमलोग कार्ड लेकर स्कूल जाते थे, वहाँ सिस्टर्स टॉफी देती थी चर्च में ले जाती थी और बाईबल पढ़कर सुनाती थीं| समझ में तो नहीं आता था पर बहुत ध्यान से सुनते थे हम सभी | उसके बाद हमलोग मौली मिस के घर जाते थे कार्ड देने | वहाँ केक मिलता था और बहुत तरह का केरेलियन व्यंजन (एक का नाम उत्पम या अच्पम कुछ ऐसा ही नाम था ) 
मौली  मिस, रूबी सिस्टर, नीलिमा सिस्टर, सेव्रिन सिस्टर, संध्या सिस्टर और सबसे प्यारी जोश्लिन सिस्टर I MISS YOU ALL A LOT.
रूबी सिस्टर जब भी किसी बच्चे को मारती थी तो अगले दिन टेंशन से उनकी तबियेत ख़राब हो जाती थी | जोश्लिन सिस्टर ....... उनकी बातें तो हमारे लिए तो उनकी बातें तो हमारे लिए पत्थर का लकीर हुआ करती थी | वे कभी डांटती नहीं थीं पर उनकी बातों में वो जादू था कि कभी भी उनकी बातों कि अवहेलना नहीं करते थे हमलोग | हँसी हँसी में ही वे अक्सर ऐसी छोटी छोटी बातें कह जाती थीं जो जिन्दगी के लिए काफी बड़ी बातें हैं | आज भी उनकी बातें याद हैं मुझे और जीवन के कई मोड़ पर ये बातें मार्गदर्शन भी करती हैं |
सिस्टर्स कहती थीं कि सच्चे दिल से इश्वर से किसी और के लिए (निस्वार्थ भाव ) कुछ मांगो तो जरुर  मिलता है | आज मैं उस इश्वर से यह प्रार्थना करती हूँ कि वे लोग जहां कहीं भी हो , जहां भी उनका स्थानांतरण  हुआ हो वे हमेशा हंसती मुस्कुराती रहें |
सिस्टर्स का सबसे प्रिये गाना जो हमे बचपन में सिखाया था उन्होंने :-
GOD'S LOVE IS SO WONDERFUL
OOOO WONDERFUL LOVEEEEE
IT'S SOOO HIGH, SO HIGH
WE CANT GET OVER IT
OOOO WONDERFUL LOVE
IT'S SO DEEP , SO DEEP 
WE CANT GET UNDER IT
OOOO WONDERFUL LOVE
IT'S SO WIDE, SO WIDE
WE CANT GET AROUND IT 
OOOO WONDERFUL LOVE
ये सोंग तो आज भी याद है और इसके सहारे याद आती है सिस्टर्स कि wonderful लव.................. 

9 comments:

  1. आपकी ये बाते सुन मुझे भी अपना बचपन याद आ गया......ऐसे अब भी तो बचपन गया कहा.....बहुत ही सुंदर ......बधाई .... मेरा ब्लाग "काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ साथ ही "हिन्दी साहित्य मंच" पर भी मुझे देखे....आप आये और मेरा उत्साह बढ़ाए।........धन्यवादकी..........

    ReplyDelete
  2. क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  3. क्रिसमस की शुभकामनाएं....
    पटना का कैथलिक चर्च बहुत मिस करता हूँ...:) बहुत सुकून मिलता था वहां ...

    ReplyDelete
  4. marry christmas//
    good remembrence//

    ReplyDelete
  5. मेरी क्रिसमस!
    --
    बहुत बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. आलोकित जी आपको भी मेरी क्रिसमस की बहुत बहुत बधाई........ बहुत सुंदर पोस्ट .
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी

    ReplyDelete
  7. @Satyam ji maine hindi Sahitya manch par aapki rachna dekhi. Chaliye mere post ne kuch to acha kaam kiya(aapko bachpan ki yaad dila kar)

    ReplyDelete
  8. @Kailash ji
    @Shekhar ji
    @ sanjay ji
    @ baban ji
    @ shastri ji
    @ Upendra ji
    merry christmas 2 u all

    ReplyDelete