Tuesday, December 28, 2010

काँच के रिश्ते



रिश्ते काँच से ,

नाजुक होते हैं |
धूप कि गर्माहट मिले ,
हीरों से चमक जाते हैं |
रंगीन चूड़ियाँ बनकर ,
जीवन को सजाते हैं |
इनके गोल दायरों में 

हम बंध  कर रह जाते हैं |
हाथ से जो छूटे ,
चकनाचूर हो जाते हैं |
बटोरना चाहो तो ,
कुछ जख्म दे जाते हैं |
आगे बढ़ना चाहो तो ,
पाँव को छल्ली कर जाते हैं |
रिश्ते बड़े जतन से ,
संभाले जाते हैं |

16 comments:

  1. रिश्तो की प्यारी परिभाषा....अच्छी लगी...दिल को कहीं छू गयी.............:)

    ReplyDelete
  2. truly brilliant..
    keep writing......all the best

    ReplyDelete
  3. bahut khoob Alokita ji...........me to fan ho gaya apka

    ReplyDelete
  4. आलोकित जी
    रिश्तों का संसार ऐसा ही हैं
    'रहिमन धागा प्रेम का मत तोड़ो चटकाय"
    इनके टूटने की टीस बयां न हो तो ही अच्छा हैं
    पर इससे बेहतर कुछ नहीं संजोने के लिए ह्रदय मैं
    बधाई अप्रितम रचना के लिए

    ReplyDelete
  5. कांच के रिश्ते... बिखरे तो फिर कहाँ जुड़ते है .....
    ..बेहद मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना , बधायी ।

    ReplyDelete
  7. dil ko chho lenevaali rachna...sundar presentation.

    ReplyDelete
  8. sundar,saral kintu bhavpoorn rachna..
    sath me chitron ka hona...kya kahna?

    ReplyDelete
  9. सुंदर बिंबों से सजी दिल को छूने वाली खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  10. रिश्तों का बहुत भावपूर्ण चित्रण..बहुत सुन्दर प्रस्तुति .नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  11. रिश्तों की अहमियत को बेबाकी से दर्शाया है..बहुत खूब..

    ReplyDelete